Shri Prabhat Times

जिले में आधुनिक तरीके से सट्टा चलाने की तैयारी । क्या रोक पाएगा प्रशासन या होगा फैल …?

श्री प्रभात टाइम्स 20 अगस्त 2021 होशंगाबाद बाबई **जिले में आधुनिक तरीके से सट्टा चलाने की तैयारी ।

**क्या वास्तव में सट्टा कारोबारी हों सकेंगे इस फार्मूले में सफल ?

**प्रशासन कैसे करेगा कार्यवाही

सोनू मालवीय
माखननगर- जिले में इन दिनों सट्टे का कारोबार काफी चरम सीमा पर है और प्रतिदिन करोड़ो रूपयों का खेल खेला जा रहा जहां भी देखो इन दिनों सटोरी लोग ओपन टू क्लोज के चक्कर में हैं और कई लोग इस खेल में बर्बाद भी हो रहे हैं हालांकि प्रषासन द्वारा भी कभी कबार छोटी मोटी कार्यवाही करके छोड़ देते हैं और मामले को रफा-दफा कर देते परन्तु अब जिले में नई तकनीक से सट्टा चलाने की कवायत शुरू होने वाली बहुत जल्द सट्टा कारोबारी द्वारा आधुनिक तरीके से यानी इनके द्वारा नया फार्मूला अपनाने की तैयारी चल रही है जिससे ये प्रषासन की कार्यवाही से बच सके । बताया जाता है कि बाबई ब्लाक में इसकी शुरुआत होने की तैयारी चल रही है।
क्या है नया फार्मूला—-,,,, सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बताया जाता है कि बाहर प्रदेश से कुछ लोग जिले में आये हुऐ हैं जोकि सट्टे कारोबारियों से मिलकर नया फार्मूला से सट्टा चलाया जाएगा जिससे उन कारोबारियों को काफी सहूलियत भी मिलेगी बताया जाता है कि करोबारियो द्वारा एक आधुनिक साफ्टवेयर तैयार किया जा रहा है जिसमें कारोबारियों के एजेंटों के मोबाइल नंबर फीड होंगे वहीं उन एजेंटो के गुप्त कोड होंगे एजेंट कहीं से भी बैठकर अंकों का उतारा कर देगा जोकि सीधा साफ्टवेयर पर आ जाएगा जिसके चलते बताया जाता है कि जहां-जहां पर भी एजेंट रहेंगे उन एजेंटों पर एनरोइड मोबाइल होना जरूरी रहेगा ।
क्या प्रषासन होने देगा इन कारोबारियों को कामयाब– आपको बताते कि वास्तव में यदि ऐसा होता है तो क्या प्रषासन सट्टे के कारोबारियों को अपने मंसूबों पर कामयाब होने देगा ? या फिर सटटे के कारोबारियों के मंसूबे पर पानी फेरेगा।

होशंगाबाद की सब्जी मंडी जो फूलवती जयसवाल स्कूल परिसर के नाम से जाना जाता था आज यहां सट्टा बाजार के नाम से जाना जाता है और चंद कदम पुलिस थाना के अलावा कलेक्टर कार्यालय कमिश्नर कार्यालय जिला न्यायालय होने के बावजूद भी सटोरी खुलेआम सट्टा कैसे लिख रहे हैं लिख रहे हैं इससे बड़ी शर्म की ओर क्या बात हो सकती है इससे साफ प्रतीत होता है कि पुलिस के संरक्षण में ही यह काम चल रहा होगा , और अब बहुत जल्दी अब नई तकनीकी आने वाली है ऐसे में क्या पुलिस प्रशासन अपने मकसद मे सफल होगा या संरक्षण देगा यह तो समय ही बताएगा

इनका कहना है – आपके द्वारा जानकारी मिली है यदि ऐसा होता है तो हम कार्यवाही करेंगे ।
सुरेश फरकले (साईबर सेल प्रभारी होशंगाबाद)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *