Shri Prabhat Times

4 वर्ष के कार्यकाल को पूर्ण कर उपसंचालक कृषि जितेंद्र सिंह हुए कार्यमुक्त ,

श्री प्रभात टाइम्स 1 सितंबर 2021 होशंगाबाद. अपने सफल 4 वर्ष के कार्यकाल को पूर्ण कर उपसंचालक कृषि जितेंद्र सिंह विगत दिवस कार्यमुक्त हो अपने नवीन कार्यस्थल छिंदवाड़ा के लिए रवाना हो गए जितेंद्र सिंह ने अपनी छवि एक मृदुभाषी और किसान हितेषी होने के साथ-साथ स्थानीय स्तर पर एक सफल अधिकारी के रूप में स्थापित की और यही कारण है कि समाज के हर वर्ग हर पक्ष के लोगों ने उनके कार्यकाल की भूरी भूरी प्रशंसा कर उनको प्रथक प्रथक कार्यक्रम आयोजित कर भावभीनी विदाई दी. वही उनके कार्यालय द्वारा प्रदत जानकारी के अनुसार जितेंद्र सिंह के उपसंचालक कृषि के रूप में उनके सफल कार्यकाल में जिले को लगातार गेहूं एवं चना फसल की सर्वोच्च उत्पादकता प्राप्त करने के फल स्वरुप जिले की तीन महिला कृषकों को कृषि क्षेत्र के सर्वोच्च राष्ट्रीय सम्मान कृषि कर्मण अवार्ड से सम्मानित किया गया. इसके साथ ही कमिश्नर होशंगाबाद एवं कलेक्टर होशंगाबाद के निर्देशानुसार उनके मार्गदर्शन में नरवाई प्रबंधन पर जन जागरूकता का किसानों के बीच एक उत्कृष्ट उदाहरण पेश करते हुए नरवाई में आग लगाने की प्रवृत्ति पर बहुत हद तक रोक लगाई गई. विभाग ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्ष 2017 .18 मैं ग्रीष्मकालीन मूंग का क्षेत्रफल 82000 हेक्टेयर था जो विभागीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों के सतत प्रयासों से 20. 21 में 3 गुना बढ़कर 228000 हेक्टेयर हो गया अर्थात 60 दिन की फसल मैं अनुमानित उत्पादन से किसानों को लगभग दो हजार करोड़ की अतिरिक्त आय का अनुमान है जो खेती को लाभ का धंधा बनाने के मुख्यमंत्री माननीय शिवराज सिंह चौहान के प्रयासों के प्रति एक महत्वपूर्ण योगदान है. एक भयंकर प्राकृतिक प्रकोप के अंतर्गत सिवनी मालवा विकासखंड के 10-12 गांव में 24 से 27 मई 2020 के बीच ग्रीष्मकालीन मूंग फसल पर टिड्डी दलों के हमले से फसलों के बचाव के लिए विभाग ने युद्ध स्तर पर विभिन्न उपक्रम अपनाकर विभागीय अधिकारियों कर्मचारियों के साथ ही किसानों की मदद से इस प्राकृतिक प्रकोप पर विजय प्राप्त की और फसलों को भारी नुकसान से बचाया. आज होशंगाबाद जिला गेहूं उत्पादन में भी विभागीय जागरूकता के फलस्वरूप प्रदेश ही नहीं बल्कि देश में गेहूं उत्पादन व उत्पादकता के मामले में सर्वोच्च स्थान पर है व्हाट्सएप 2016 .17 में जहां जिले में गेहूं की उत्पादकता 46 क्विंटल प्रति हेक्टेयर थी वही वर्ष 2019 .20 में 50 क्विंटल प्रति हेक्टेयर हो गई है जो प्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे देश में सर्वाधिक है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *