Shri Prabhat Times

लोगों की आस्था के आगे नहीं चला प्रशासन का आदेश, बिना रोक-टोक किया श्रद्धालुओं ने नर्मदा में स्नान

श्री प्रभात टाइम्स 6 अक्टूबर 2021 होशंगाबाद
जिला प्रशासन द्वारा भले ही कागज पर फरमान जारी कर दिया गया कि
6 अक्टूबर पितृमोक्ष अमावस्या एवं स्नानदान अमावस्या पर नर्मदा नदी के सेठानी घाट एवं अन्य घाटों पर स्नान पूर्णता प्रतिबंधित रहेगा। इस संबंध में अनुविभागीय दंडाधिकारी होशंगाबाद फरहीन खान ने आदेश जारी कर संपूर्ण सबडिविजन में कानून एवं शांति व्यवस्था हेतु कार्यपालक मजिस्ट्रेट एवं राजस्व अमले की ड्यूटी लगाई है।
लेकिन इसके बावजूद भी लोग बिना किसी रोक-टोक के नर्मदा नदी में नहाते नजर आए इससे साफ जाहिर होता है कि आदेश जो कागज पर होते हैं वह धरातल पर नहीं लागू हो पाते ऐसा ही नजारा आज होशंगाबाद के सेठानी घाट पर देखने को मिला

आखिर आखिर जिला प्रशासन लोगों की आस्था पर ही प्रतिबंध क्यों लगाता है जबकि जुलूस रैली आंदोलन धरना यह निरंतर जारी है लेकिन जब बात आती है धार्मिक आस्था की तो प्रशासन अपने फरमान जारी कर घाट पर नहाना प्रतिबंधित कर दिया जाता है जबकि आज पितृ मोक्ष अमावस्या थी आज के दिन परिजन अपने पूर्वजों के लिए तर्पण का कार्य करते हैं ऐसे में प्रतिबंध लगाना क्या उचित था तो अब आगे होने वाली सफाई आंदोलन पर भी प्रतिबंध होना चाहिए यह मांग आम जनता की है जिला प्रशासन के फरमान की जगह जगह निंदा की जा रही है कि ऐसे भेदभाव पूर्ण फरमान जारी नहीं करना चाहिएप्रतिबंधात्मक आदेशसेठानी घाट होशंगाबाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *