Shri Prabhat Times

About us

श्री प्रभात टाईम्स समाचार पत्र शीघ्र और तथ्यात्मक निर्भीकता से खबर प्रकाशित करने वाला और पाठकों को पसंद आने वाला सामाचार पत्र और बेब पोर्टल है जिसको बहुत कम समय में बेहद सफलता प्राप्त की है। बेब पोर्टल और संक्षिप्त नाम एसपीटी न्यूज के नाम से खबरें प्रकाशित की जाती है। एसपीटी न्यूज अन्य सोशल मीडिया या अन्य समाचार पत्रों की प्रतिस्पर्धा या विरोध नहीं करता है सभी समाचार पत्रों सोशल साईडों का सम्मान करता है। श्री प्रभात टाईम्स की स्थापना 5 फरवरी 2015 को परम पूज्य गुरूदेव पं. श्रीराम शर्मा आचार्य, माता भगवती देवी शर्मा (संस्थापक गायत्री शक्तिपीठ) की प्रेरणा और सूक्ष्म सत्ता के आर्शीवाद से प्रकाशित किया जा रहा है जो निरंतर विश्वास और निष्ठा के साथ पाठकों के दिलों में अपना स्थान बनाते जा रहा है।

अपनी गति और सटीकता के कारण श्री प्रभात टाईम्स (एसपीटी न्यूज) की खबरों को पूरे भारतवर्ष में देखा और पढ़ा जा रहा है इस बात की पुष्टि और सराहना स्वयं पाठकों ने की है। हम पाठकों का ह्दय से आभार व्यक्त करते है। एसपीटी न्यूज राजनैतिक, निर्माण, सभी छोटी से छोटी घटना, आयोजन, मनोरंजन के अलावा प्रमोशन से जुड़ी खबरों को प्रमुुखता से प्रकाशित कर लोगों का पसंदीदा पोर्टल और समाचार पत्र बन गया है कम समय में पोर्टल पर एसपीटी न्यूज के पाठक 21 लाख है जो निरंतर बढ़ती जा रही है। इसके अलावा यूट्यूब, इंस्टाग्राम, फेसबुक के अलावा व्हाट्सअप पर भी हजारों गु्रपों के माध्यम से लाखों पाठक तक खबरों को पहुंचाया जाता है जो एसपीटी न्यूज की खबरों को पसंद करते है। वहीं श्री प्रभात टाईम्स समाचार पत्र समूह की पूरी टीम निरंतर दूरगामी सोच के साथ और पाठकों की राह पर विचार करती है जिसके फलस्वरूप पाठकों की संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है स्वयं प्रधान संपादक को वर्ष 2007 से 2015 तक राष्ट्र के विभिन्न समाचार पत्रों में कार्य करने का अनुभव प्राप्त है साथ ही विभिन्न संगठनों में भी पदाधिकारी का दायित्व भी पूर्णनिष्ठा के सा थ निर्वहन कर रहे है एवं वर्ष 2015 से पूर्णनिष्ठा के साथ श्री प्रभात टाईम्स समाचार पत्र एवं वेब पोर्टल श्री प्रभात टाईम्स.कॉम एवं राष्ट्रीय चेनल के माध्यम से खबरों को आम जनता तक पहुंचाया जाता है।

श्री प्रभात टाईम्स समाचार पत्र भारत सरकार द्वारा पंजीकृत है जिसका पंजीयन क्रमांक एमपीएचएन/2015/65600 एवं डाक पंजीयन एमपी एचएसडी/47/2018-2020