Shri Prabhat Times

Friday, 14th August 2020 08:06 AM

E-पेपर पड़ने के लिए क्लिक करे .

Shri Prabhat Times Editor

Breaking News

<<वापस जाये

दिनांक: 01-Jan-2020, Wednesday ,Entertainment

केवट की भक्ति के आगे भगवान हुए बेबस

श्री प्रभात टाइम्स होशंगाबाद भक्त केवट के सामने प्रभु हुए विवश- आचार्य सदभव रामकथा के छठवें दिन भक्ति की वर्षा  जिस परमात्मा को शिव सनकादिक ऒर ऋषि मुनि भी नहीं समझ सके और प्रभु को नही पा सके वह परमात्मा आज केवट के सामने खुद को विवश पाया। केवट के प्रेम ने परमात्मा ने उसकी सभी बातें मान ली। यह बात सांगाखेड़ा कलां में चल रही राम कथा जे छटवे दिन बाल शुकदेव आचार्य सदभव तिवारी ने कही। बाल शुकदेव ने कहा कि केवट का चरित्र बहुत ही अद्भुत है। उसने अपने प्रेम से प्रभु को अपने बस में कर लिया और अपने पूरे परिवार को तार दिया। भरत जी का चरित्र राम का स्वभाव है कथा को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने भरत चरित्र की कथा सुनाई। भरत का चरित्र रामजी का स्वभाव है। गोस्वामीजी लिखते हैं कि यदि भरत जी का जन्म नहीं होता तो इस धरती पर धर्म की धुरी को कौन धारण करता। वे सत्ता से नहीं सत्य से प्रेम करते हैं। उन्होंने कहा कि जब भरत को इस बात की जानकारी मिली कि उनके पिता राजा दशरथ का निधन हो गया और उनकी माँ कैकई के राम को 14 साल के लिए वन में भेज दिया है। उसी क्षण से उन्होंने कैकेई को माता कहना छोड़ दिया। उनका राम के प्रति प्रेम अनन्य है। कहा भी गया है कि- जाके प्रिय न राम वैदेही, ताजिये ताहि कोटि बैरी सम, जद्यपि परम सनेही। आज कार्यक्रम में क्षेत्रीय विधायक ठाकुर विजय पाल सिंह, पूर्व विधायक ठाकुर राजेन्द्र सिंह, टेनिस खिलाड़ी आद्य तिवारी मौजूद रहे। गुरुवार का कथा का समापन ओर भंडारा होगा।

News By: Santram Nishrele

icon408
iconShare on whatsapp

<<वापस जाये