Shri Prabhat Times

Wednesday, 29th January 2020 09:46 AM

E-पेपर पड़ने के लिए क्लिक करे .

पूरे वर्ष फ्री अखबार आपके घर बुलाने के लिए क्लिक करें .

Breaking News

<<वापस जाये

दिनांक: 07-Jan-2020, Tuesday ,Hoshangabad

आरटीआई से खुल सकता था बिजली विभाग का बड़ा फर्जीवाडा इसलिए बचने के लिए विभाग ने मुकेश अहिरवार की झूठी शिकायत

श्रीप्रभात टाईम्स होशंगाबाद। जब से सूचना के अधिकार चालू हुआ है तब से प्रतिदिन नए नए फर्जीवाडो का खुलासा हो रहा है और जिसमें अभी तक का सबसे बडा फर्जीवाडा व्यापम घोटाला भी आरटीआई के माध्यम से ही उजागर हुआ था। इसी प्रकार से बाबई निवासी मुकेश अहिरवार द्वारा 6 नवम्बर 2019 को बाबई स्थित बिजली विभाग से सूचना के अधिकार अंतर्गत कुछ जानकारी चाही गई थी और मुकेश का कहना है कि जो जानकारी चाही गई है उससे बिजली विभाग का सबसे बडा फर्जीवाडा उजागर होने वाला था इसलिए उससे बचने के लिए बिजली विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों ने अपने फर्जीवाडो को छुपाने के लिए आरटीआई कार्यकर्ता की बाबई थाने में झूठी शिकायत कर दी।
मुकेश का कहना है कि वह 15-20 वर्षो से कांग्रेस पार्टी का सक्रिय कार्यकर्ता हैं और बाबई में वार्ड 1 से कांग्रेस पार्टी से चुनाव लड़ा था और पुन: फिर से चुनाव लडने की तैयारी है । इसलिये उनके विरोधियों ने उन्हें झूठा फंसाने के लिये गलत रणनीति बनाई होगी ।

बिजली विभाग के कर्मचारियों ने अधिकारी के दबाब में आकर किये अपने हस्ताक्षर

जिस मामले की शिकायत बाबई थाने में मुकेश के खिलाफ बिजली विभाग ने की है उसकी जानकारी उसी विभाग के उन लोगो को नही है जिनके हस्ताक्षर शिकायत में हैं यह बात तब उजागर हुई जब मुकेश ने उन सभी कर्मचारियों से मोबाईल पर बात की और जाना कि आपने हस्ताक्षर किए है मेरी शिकायत की है तो उन्होने बताया कि हमे नही बताया कि किस लिये हमारे हस्ताक्षर करवाए गए हैं कुछ कर्मचारियों ने बताया कि हमारे अधिकारी ने हमें भ्रमित किया था इसलिये हमें सही बात का पता नही हैं पर हमसे हस्ताक्षर करवाए गए है । इस बात के पुख्ता सबूत रिर्काडिंग शिकायतकर्ता मुकेश के पास है ।

इन अधिकारियों को की है शिकायत

मुकेश ने बिजली विभाग के खिलाफ और निष्पक्ष जांच के लिए उर्जा मंत्री मप्र शासन, सीएमडी मप्र बिजली कार्यालय भोपाल, महाप्रबंधक बिजली विभाग होशंगाबाद, पुलिस अधीक्षक होशंगाबाद के अलावा कलेक्टर होशंगाबाद को निष्पक्ष जंाच के लिए आवेदन दिया है और बिजली विभाग के प्रकाश बघेल, जितेन्द्र यादव विद्युत ठेकेदार एवं जेई सूर्यकांत साकेत के द्वारा थाने में की गई शिकायत की जांच उपरान्त दोषियो पर कार्रवाई की मांग की है साथ यह भी लिखा है कि दोषियों के विरूद्ध शीघ्र कार्रवाई नही हुई तो मजबूरन कोई धरना प्रदर्शन व परिवार सहित भूख हड़ताल व आंदोलन करने के लिए बाध्य होना पडेगा।
अब देखना यह कि प्रशासनिक अधिकारी इस मामले को कितने गंभीरता से लेते है

News By: Santram Nishrele

icon197
iconShare on whatsapp

<<वापस जाये