Shri Prabhat Times

Thursday, 14th November 2019 06:55 PM

E-पेपर पड़ने के लिए क्लिक करे .

पूरे वर्ष फ्री अखबार आपके घर बुलाने के लिए क्लिक करें .

Breaking News

<<वापस जाये

दिनांक: 20-Mar-2018, Tuesday ,Hoshangabad

सिडिकेट बैक के मैनेजर के अडिय़ल व्यवहार से ग्राहक परेशान

सिडिकेट बैक के मैनेजर के अडिय़ल व्यवहार से ग्राहक परेशान 

श्री प्रभात टाईम्स होशंगाबाद (संतराम निषरेले)। आज के काम्पटीशन के दौर में बैंक क्षेत्र की बात करें तो होशंगाबाद में शासकीय और प्रायवेट बैकों की भरमार है। एक बैक दूसरी बैक की अपेक्षा बेहतर सेवा देने के लिये तैयार है। इतना ही नही बैंको के ग्राहक परेशान न हो उनके लिये ग्राहक पूछताक्ष काउंटर तक अलग लगा दिया है ताकि ग्राहक को सही जानकारी मिल सकें। लेकिन मीनाक्षी चौक स्थति सिंडिकेट बैक की मैनेजर के सिर पर इस कदर कुर्सी का अंहकार है कि ग्राहको से सीधे मुंह बात ही नही करती। जिससे ग्राहक खातें से जुडी कई जानकारी नही ले पा रहें है और कई ग्राहक तो नये खाते खुलवाने की अपेक्षा सिंडिकेट बैक से नये खाते नही खुलवाने की बात करते नजर आएं। जबकि कुछ ग्राहको से पूछा गया तो उन्होने भी एक ही जबाव दिया कि जब से नए मैनेजर आये है तब से बंैक का माहौल खराब हो गया है।

बैंक के पास नहीं है एक भी एटीएम चालू  : आज हम डिजिटल इंण्डिया की बात करते है तो देश के प्रधान मंत्री की याद आ जाती है और कैशलेस की बात करते है तो इलैक्ट्रौनिक संसाधन की याद आती है और इस जमाने में बैकों ने अपने ग्राहकों के लिये जगह जगह एटीएम मशीन लगा रखी है। लेकिन आज के आधुनिक युग में बाबाआदम की तरह चल रहा है सिंडिकेट बैक जिसके पास आज की तारीख में एक भी एटीएम मशीन चालू नही है।  जो अपने आप में शर्म की बात है और बैंक ने एक एटीएम मशीन बंैक परिसर में लगाई थी जो कई महीनों से ताला जडा है । 

एटीएम मशीन न होने से ग्राहकों को हो रहा है आर्थिक नुकसान : आज किसी भी शहर की बात करें या किसी भी खाता धारक की तो हर शहर में अपनी अपनी बैंको के कई एटीएम मशीन लगी है और आज हर व्याक्ति की जेब में एटीएम कार्ड है। वह उसका उपयोग भी कर रहा है लेकिन सिंडिकेट बैक की होशंगाबाद शाखा के ग्राहक यहां आयूस हो रहें है । क्योंकि उसकी बैक के पास आज के दौर में कोई एटीएम मशीन चालू नही है जिसके कारण पैसा निकालने के लिये अन्य बैकों के एटीएम मशीन का सहारा लेना पढ़ रहा है और अधिक बार अन्य बैको के एटीएम मशीन से पैसा निकालने के कारण हर बार खातें से निकाली गई राशि से अधिक पैसा कट रहें है जो एक चिंता का विषय है और यह बैक की लापरवाही के कारण हो रहा है क्योंकि बैंक ने एक भी एटीएम मशीन चालू नही है। जबकि हर खाता धारक को आज भी एटीएम दिया जा रहा है या तो अब एटीएम ही नही देना चाहिए। 

बुजुर्ग ग्राहकों के लिये नही है पर्याप्ट बैठने की व्यवस्था : हजारों खाता धारक होने के बाद बुजुर्गो के लिये नामात्र कुर्सी रख दी गई है जो हमेशा भरी रहती है और बुजुर्ग जब अपनी पेंशन निकालने जाते है तो घंटों लाईन में अपने नम्बर आने का इंतजार करते रहता है । जो अपनी पीड़ा बताते है तो उसे वही चुप कर दिया जाता है ।
नहीं है सीनियर सिटीजन के लिए कोई अलग काउंटर : आज सरकार वृद्वजनों के लिये यू तो हजारो योंजना के माध्यम से लाभ दे रही है लेकिन बैक में अलग काउंटर नही होने के कारण घंटों लगना पढता है । जिससे उनको अनेक परेशानियों को सामना करना पढता है और बैक के कोई अधिकारी कर्मचारी उनकी सुनने को तैयार नही है। कुछ वृद्वजनों ने इस बात की शिकायत उच्चअधिकारियों को की है ।

क्यों नही लिखे है शाखा प्रबंधक और कर्मचारियों के नाम पद : ग्राहक और बैक कर्मचारियों के पारदर्शिता होना चाहिऐ और यदि ग्राहक संतुष्टि नही है तो किसी कर्मचारी की शिकायत उच्च अधिकारी से कर सकें इसके लिये प्रत्येक कर्मचारियों के चेंम्बर और टेबल पर उनके नाम पता लिखा होना चाहिये लेकिन ऐसा यहां नही है। यहां तो शाखा प्रबंधक ने भी अपने चेंम्बर पर अपना नाम पद भी नहीं लिख रखा है ताकि उनके अनोखे रवैये की शिकायत बैंक के उच्च अधिकारीयों तक न पहुंचे। लेकिन आज के समय में हर खाता धारक के पास मोबाईल है और गूगल के माध्यम से दुनिया की तमाम जानकारी प्राप्त कर सकते है। 

अपने ही हस्ताक्षर प्रमाणित करने के बैक लेता है पैसा : जी हॉ यदि आपका खाता सिंडिकेट बैक में है और हस्ताक्षर  या खाता प्रमाणित करवाना है तो यहा आपको देने होने 240 रूपए और यदि आप पूछेंगे कि इतने पैसे क्यों लगते है तो शाखा प्रबंधक इस बात की आप को कोई जानकारी नही देंगे। ऐसा ही मामला सामने आया जिसमें जब एक खाताधारक को अपने खाते में प्रायवेट कंपनी के माध्यम से भुगतान होना है जिसके लिये कंपनी ने एक फार्म दिया था जिसमें बैक के खाता होने को प्रमाण मांगा गया तो अपने ही खाते को प्रमाण मांगने के लिये देने पढे 240 रूपए और जब खाता धारक ने पूछा कि इतनी राशि अन्य बैंको में तो लग नही रही तो आप की बैक में क्यों ? इस बात से शाखा प्रबंधक ने गोलमोल जबाव देकर बात नहीं करना चाहा और कहॉ कि आप तो सूचना के अधिकार से जानकारी ले लो या उच्चअधिकारी से शिकायत कर दो । जब उक्त संबंध में उच्चअधिकारीयों से संपर्क किया गया तो उन्होने साफ मना कर दिया कि हस्ताक्षर या खाता प्रमाणित करने का कोई चार्ज नही लगता । 

इनका कहना :

अभी हमारी बैंक के पास कोई एटीएम मशीन नहीं है जो थी वह बंद है नई मशीन लगेगी पर कब लगेगी हमें पता नही है।

शाखा प्रबंधक
सिंडिकेट बैक होशंगाबाद

News By:

icon766
iconShare on whatsapp

<<वापस जाये